साइबर क्राइम के लिए कैसे और कहां दर्ज कराएं FIR, जानिए कौन करेगा कार्रवाई

पी में साइबर सेल को थाने लेवल पर मजबूत करने के लिए प्रदेेश से अधिकारियों को चुनकर साइबर ट्रेनिंग कराई जा रही है

Posted February 2,2019 in Education.

MD ZEESHAN ARIF
100 Followers 121 Views

यूपी में साइबर सेल को थाने लेवल पर मजबूत करने के लिए प्रदेेश से अधिकारियों को चुनकर साइबर ट्रेनिंग कराई जा रही है। ऐसे मामले पुलिस की जानकारी में आए हैं, जब लोगोंं ने अपने साथ हो चुके साइबर क्राइम की जानकारी पुलिस को काफी लेेट दी या फिर लोगों को यही नहीं पता था कि साइबर क्राइम की रिपोर्ट कैसे और कहां दर्ज करवाएं। ऐसे में leemug.com आपको बताने जा रहा है कि अगर आपके साथ कोई साइबर क्राइम की घटना होती है तो उसका कैसे सामना करें।

साइबर क्राइम एक्‍सर्ट अनुज अग्रवाल ने बताया कि साइबर क्राइम का अपराध क्षेत्र ग्‍लोबल होता है।
-इसकी शिकायत कहीं भी दर्ज करवाई जा सकती है। 
- इसलिए यह जरूरी नहीं कि पीत अपनी रिपोर्ट वहीं दर्ज करवाए जहां का वह निवासी है। 
-वह जिले की साइबर सेल या फिर किसी भी थाने में इसकी शिकायत कर सकता है। 
- यूपी में महिलाएं 1090 या फिर अन्‍य कोई भी डायल 100 पर भी इसकी शिकायत कर सकता है। 
-इसके अलावा यूपी पुलिस की वेबसाइट पर जाकर आनलाइन कंप्‍लेन भी फाइल की जा सकती है।

 

क्राइम के सारे सुबूत अधिकारी को कराएं एवेलेबल 
- अनुज अग्रवाल ने बताया कि विक्टिम को अपने साथ हुए क्राइम की डिटेल कंप्‍लेन करनी चाहिए। 
- डिटेल के साथ क्राइम संबंधी जो भी सुबूत उसके पास हों, उसे वह इंवेस्‍टीगेशन करने वाले अधिकारी को तुरंत उपलब्‍ध कराएं।

 

हार्ड और सॉफ्ट काॅपी में दें क्राइम डिटेल 
- विक्टिम को अपने साथ हुए क्राइम की डिटेल हार्ड और सॉफ्ट कॉपी दोनों में देनी चाहिए। 
- जैसे हैकिंग की समस्‍या पर संबंधित वेबपेज का प्रिंट और उसकी प्रिंट स्‍क्रीन कॉपी अधिकारी को उपलब्‍ध करवाएं।

 

पके डाटा का कौन एक्‍सेस कर सकता है 
- शिकायत के समय अधिकारी को सारी बातें बताएं। 
- जिसके पास आपके ई-मेल, फेसबुक का पासवर्ड रहता हो। उसके बारे में भी जानकारी देनी चाहिए

सस्‍पेक्‍ट का भी सुराग दें 
- अनुज अग्रवाल के मुताबिक, शिकायत के समय शक के दायरे में आने वाले लोगों के बारे में बताएं। 
- अपने शक के दायरे में आने वाले लोगों की पूरी जानकारी देनी चाहिए।

 

अधिकारी से अपनी शिकायत संख्‍या जरूर पूछें
- जिस अधिकारी से आपने शिकायत दर्ज करवाई है, उससे क्राइम नंबर जरूर ले लें।
- यह क्राइम नंबर आपको केस आगे ले जाने में मदद करेगा। 
- इसके अलावा इंवेस्टिगेटिंंग ऑफिसर से समय-समय पर केस रिलेटेड जानकारी हासिल करते रहें

इन जगहों पर कर सकते हैं शिकायत 
- अनुज अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश के हर थाने पर आप साइबर क्राइम की शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। 
- इसके अलावा हर जिले पर साइबर क्राइम सेल का गठन हो चुका है। 
- आप जिले के साइबर सेल प्रभारी या पुलिस अ‍धीक्षक से भी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं।

 

हर जिलेे पर मौजूद हैं ट्रेंड ऑफिसर
- थाने लेवल से लेकर जिले के एसपी लेवल तक का अधिकारी आपकी शिकायत को दर्ज करने के लिए जिम्‍मेदार होता है। 
-कोई यह नहीं कह सकता कि उनके पास ट्रेंड ऑफिसर नहीं हैं और इसकी शिकायत सिर्फ हेडक्‍वार्टर या राजधानी मुख्‍यालय पर होगी। 
- प्रदेश भर में हर जिले पर ऐसे अधिकारियों की तैनाती की गई है, जिन्‍हें साइबर क्राइम की जानकारी हो

आगे की स्‍लाइड्स में पढ़िए क्राइम के बार-बार होने पर क्‍या करें...

क्राइम के बार-बार होने पर दें जानकारी 

- साइबर क्राइम एक्‍सपर्ट अनुज अग्रवाल की मानें तो अगर साइबर क्राइम की घटना का आप बार-बार शिकार हों, तो आप इंवेस्टिगेटिंग ऑफिसर को तुरंत सूचना दें। 
- आपके वेबपेज, फेसबुक  पेज, ब्‍लाग या चैट पर होनेे वाले क्राइम की छोटी से छोटी जानकारी अधिकारी को केस इंवेस्टिगेशन के समय देते रहें
 
साइबर क्राइम से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्‍यान 
- अनुुज अग्रवाल ने बताया कि साइबर क्राइम से हम अपना बचाव कर सकते हैं। 
- इसके लिए हमें पैन और आधार कार्ड का कम से कम इस्‍तेमाल करना चाहिए, सिर्फ वोटर आईडी का ज्‍यादा इस्‍तेमाल करना चाहिए। 
- अगर पैन कार्ड देना भी हो तो देने वाले का नाम और कारण फोटोकापी पर जरूर लिखें। 
- अपनी निजी जानकारी किसी को न दें। 
- अगर बैंक से काॅल आए तो होल्‍ड करवाकर उसके लिस्‍टेड नंबर पर काल करके कंफर्म कर लें। 
- अपने मेल बॉक्‍स की जंक मेल रोज क्‍लीयर करें। 

 

MD ZEESHAN ARIF Articles

Read more

Economics and Trade
February 2, 2019 | 132 Views

Education
February 2, 2019 | 78 Views

Education
February 2, 2019 | 270 Views